Shatavari ke fayde – शतावरी के 15 फायदे और सेवन का तरीका

शतावरी क्या है ?

शतावरी एक प्रकार की जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल कई वर्षों से आयुर्वेद में होता आया है । इसे अंग्रेजी में Asparagus के नाम से भी जाना जाता है । इसका वैज्ञानिक नाम Asparagus Racemosus है । भारत में इसे सतावर, सतावरी, सतमूली, शतावरी, सरनोई आदि के नाम से भी जाना जाता है ।

इस जड़ी-बूटी को कई वर्षों से शरीर की विभिन्न प्रकार की परेशानियों एवं बीमारियों को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है । शतावरी का प्रयोग खासतौर पर महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद माना जाता है ( shatavari ke fayde in hindi ) । ऐसा कहा जाता है कि जो महिला शतावरी का प्रयोग करती है उस महिला को शारीरिक समस्याएं ना के बराबर होती है ।

शतावरी के प्रकार – types of shatavari

1) विरलकंद शतावर – यह एक अलग प्रकार का शतावर होता है और इसका रंग बैंगनी होता है । आयुर्वेद में ज्यादातर इसका काढ़ा बनाकर पीने की विधि बताई गई है । इसका रंग बैंगनी होता है क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट मौजूद होता है ।

2) कुन्तपुत्रा शतावर – यह शतावर भारत में सबसे ज्यादा पाया जाता है और इसके कंद काफी छोटे होते हैं और पौधे झाड़ी नुमा होते हैं । इसका रंग सफेद और हरा होता है और भारत में सबसे ज्यादा इसी शतावर का इस्तेमाल किया जाता है और आपको भी इसी शतावर का इस्तेमाल करना चाहिए ।

shatavari ke fayde

शतावरी के फायदे – Shatavari ke fayde

1) वज़न करे कम – शतावरी में फाइबर, एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी की प्रचुर मात्रा होती है जो आपके बढ़ते वजन को घटाने में आपकी सहायता करती है ( shatavari ke fayde ) । शतावरी के लगातार सेवन से शरीर की अत्यधिक चर्बी भी कम होने लग जाती है और आपका वजन असल में जितना होना चाहिए उतना हो जाता है ।

2) डायबिटीज – कई वर्षों से डायबिटीज को नियंत्रण में करने के लिए आयुर्वेद में शतावरी का इस्तेमाल होता आया है । एक रिसर्च में यह बात भी सामने आई कि शतावरी खून में ग्लूकोज की मात्रा को बढ़ा देता है जिससे डायबिटीज को नियंत्रण में रखने में मदद मिलती है । साथ ही यह पेनक्रिएटिक ग्लैंड को एक्टिव करने में और इंसुलिन बनाने में भी सहायता करता है ।

3) माइग्रेन – शतावरी में Riboflavin नाम का एक विटामिन पाया जाता है जो माइग्रेन से लड़ने में मदद करता है । शतावरी में यह विटामिन प्रचुर मात्रा में होता है और यदि 5 ग्राम शतावरी का सेवन रोज़ किया जाए तो यह माइग्रेन की समस्या से निजात दिलाने में सहायता कर सकता है ( shatavari ke fayde )

4) हार्ट अटैक – शतावरी बायो एक्टिव गुणों से परिपूर्ण होता है जिसके कारण यह खून में मौजूद बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और गुड कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने में सहायता करता है । जिसके कारण ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है और आप हार्ट अटैक जैसी समस्या से भी बचे रहते हैं । यदि आपकी फैमिली हिस्ट्री हार्ट अटैक की रही है तो आपको शतावरी का सेवन अवश्य करना चाहिए ।

5) प्रतिरोधक क्षमता – प्रतिरोधक क्षमता शरीर की वह कार्यप्रणाली होती है जो शरीर को बाहरी बैक्टीरिया एवं वायरस के संक्रमण से बचाती है । शतावरी में प्रचुर मात्रा में विटामिन ई, विटामिन सी, विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायता करता है ( shatavari ke fayde ) । यदि आप शतावरी का सेवन रोज करते हैं तो आप जल्दी बीमार नहीं पड़ते क्योंकि समय के साथ यह आपके प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देता है ।

6) अनिद्रा – कई लोगों के शरीर में हार्मोनल डिसबैलेंस अथवा स्ट्रेस होने के कारण नींद ना आने की समस्या खड़ी हो जाती है जो स्वास्थ्य को हानि पहुंचाता है । अनिद्रा जैसी बड़ी परेशानी को ठीक करने में भी शतावरी सहायता करती है इसमें मौजूद बायो एक्टिव तत्व आपकी अनिद्रा को ठीक करने में सक्षम होती है ।

7) आंखों के लिए अमृत – विटामिन ए आंखों को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरूरी होता है इसलिए डॉक्टर हमें सेब खाने की हिदायत भी देते हैं क्योंकि सेब में आयरन भी होता है और विटामिन ए भी पर आयुर्वेद में आंखों को 100 साल तक स्वस्थ बनाए रखने की विधि बताई गई है ( shatavari ke fayde )

आयुर्वेद के अनुसार यदि कोई व्यक्ति रोज दिन में एक बार अपनी डाइट में शतावरी को शामिल करता है तो उसकी आंखें कभी कमजोर नहीं होती और बूढ़े होने के बाद भी उसे चश्मा लगाने की जरूरत नहीं पड़ती । यदि आपको पहले से ही चश्मा लगा है तो आप रोज शतावरी का सेवन करना शुरू करें आपका चश्मा उतर जाएगा । ये भी पढ़ें – Home remedies for eyesight improvement |

8) हड्डियों के लिए फ़ायदेमंद ( shatavari ke fayde ) – हड्डियों के लिए कैल्शियम सबसे ज्यादा जरूरी तत्व होता है साथ ही फास्फोरस भी हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में सहायता करती है । यह दोनों ही चीजें शतावरी में प्रचुर मात्रा में पाई जाती है । यदि आप शतावरी का सेवन करते हैं तो यह आपकी हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में आपकी सहायता करता है । 35 साल की उम्र के बाद महिलाओं की हड्डियों की डेंसिटी कम होने लग जाती है उसे ठीक करने के लिए महिलाओं को शतावरी का सेवन करना चाहिए ।

9) पाचन बनाए मज़बूत शतावरी में फाइबर और विटामिन सी की मात्रा पाई जाती है जिसके कारण शतावरी आपके पेट में मौजूद सारे कचरे को साफ करके बाहर निकाल देती है । यह आपके बाउल मूवमेंट को भी ठीक रखने में आपकी सहायता करता है और आपके पाचन तंत्र को पहले से ज्यादा मजबूत बना देता है ।

10) कैंसर – कैंसर एक भयानक बीमारी है जिसकी वजह से हर साल हजारों लोग मौत की बलि चढ़ जाते हैं । कैंसर होने की कोई भी वजह जरूरी नहीं है यह किसी के भी शरीर में हो सकता है ( shatavari ke fayde ) । एक शोध में पाया गया कि शतावरी में मौजूद Sulforaphane नामक तत्व शरीर के अंदर फ्री रेडिकल्स को पैदा होते ही खत्म कर देता है ।

जिसके कारण कैंसर जन्म लेने से पहले ही खत्म हो जाता है । यदि कोई व्यक्ति कैंसर से जूझ रहा है तो उसे शतावरी का सेवन अवश्य करना चाहिए, कैंसर से लड़ने में यह काफी सहायक माना जाता है । ये है कैंसर के लक्षण |

महिलाओं के लिए 5 बड़े फ़ायदे – shatavari benefits for women

कई ऋषि-मुनियों से यह बात सुनने को मिलती है कि शतावरी एक ऐसी प्रकार की जड़ी बूटी है जिसका सेवन महिलाओं को अवश्य करना चाहिए क्योंकि शतावरी महिलाओं के शरीर के लिए अमृत के समान है । शतावरी का सेवन जो भी महिला करती है वह महिला शारीरिक समस्याओं से दूर रहती है और आइए जानते हैं कि शतावरी के सेवन से महिलाओं को कौन से 5 बड़े फायदे होते हैं ।

11) पीरियड्स के दौरान फ़ायदेमंद ( shatavari ke fayde ) – पीरियड्स के दौरान हर महिला को काफी दर्द, उल्टी, ऐंठन, थकान, ब्लीडिंग जैसी समस्याएं होती हैं जो काफी पीड़ादायक भी होता है । यदि कोई महिला पीरियड्स के दौरान भी शतावरी का सेवन करना शुरू करें तो शतावरी इन परेशानियों को बहुत हद तक कम कर देता है ।

12) प्रेगनेंसी में मददगार – जिन महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या आती है उन महिलाओं को शतावरी का सेवन अवश्य करना चाहिए । शतावरी आपके शरीर में अंडों के उत्पादन को बढ़ाने में सहायता करता है जिसके कारण गर्भधारण करने की संभावना बढ़ जाती है । शतावरी में फोलेट नाम का एक तत्व होता है जो भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होता है एवं गर्भवती महिलाओं को भी प्रेगनेंसी के दौरान शतावरी का इस्तेमाल अवश्य करना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से कई समस्याएं दूर होती ही है साथ ही बच्चे का स्वास्थ्य भी अच्छा बना रहता है ।

13) स्तनों में दूध बढ़ाए – कई महिलाओं को प्रेगनेंसी के बाद स्तनों में दूध की कमी होती है और इसका कारण होता है शरीर में जरूरी तत्वों की कमी और कमजोरी पर यदि वह महिला शतावरी का सेवन करना शुरू करें तो धीरे-धीरे उनके स्तनों में दूध का उत्पादन बढ़ने लग जाता है । जो बच्चे की सेहत के लिए बहुत जरूरी होता है । यदि बच्चा 6 महीने तक सिर्फ मां का दूध पिए तो उसकी बुद्धि और शारीरिक विकास ज्यादा तेजी से होते हैं ( shatavari ke fayde )

14) थाइरोइड से बचाए एक शोध के अनुसार प्रेगनेंसी के दौरान 30% महिलाओं को थायराइड की समस्या हो जाती है । जिसके कारण डिलीवरी होने के बाद अचानक से ही उनका वजन बढ़ने लग जाता है और वह मोटी हो जाती है । मोटा होना किसी को भी पसंद नहीं है इसलिए गर्भवती महिलाओं को शतावरी का सेवन अवश्य करना चाहिए ताकि उन्हें गर्भावस्था के दौरान थायराइड जैसी बीमारी ना हो ।

15) यौन समस्याएँ करे दूर – यदि आप एक महिला है और आपको यौन संबंधित कोई भी समस्या है तो आप शतावरी का सेवन करना शुरू करें । 3 माह इसका सेवन करें आपको धीरे-धीरे फर्क दिखने लग जाएगा और जितनी भी यौन समस्याएं है वह ठीक हो जाएंगी ( shatavari ke fayde in hindi ) । शतावरी का असर पहले महीने से ही शुरू हो जाता है साथ ही इसका सेवन पुरुष भी अपनी यौन शक्ति को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं ।

शतावरी का चयन कैसे करें

शतावरी का चयन कैसे करें

शतावरी की जड़े आपको किसी भी पंसारी की दुकान पर मिल जाएंगे आप उसे खरीद कर ले आए और उसे सुखाकर मिक्सर में बारीक पीसकर उसका पाउडर बना लें आपका शतावरी पाउडर तैयार है अब इसे किसी  डब्बे में बंद करके रख ले और अगर आप इतनी मेहनत नहीं करना चाहते तो आप मार्केट से भी किसी अच्छी क्वालिटी का शतावरी पाउडर खरीद सकते हैं वह भी उतना ही फायदेमंद होगा |

buy shatavari powder

इस लिंक से जाकर आप खरीद सकते हैं शतावरी पाउडर |

शतावरी के सेवन का सबसे सही तरीका

शतावरी के सेवन का सबसे सही तरीका

शतावरी का सेवन करने के कई तरीके होते हैं पर आज हम आपको इस लेख में बताएंगे कि किस प्रकार से शतावरी का सेवन करने से इसके ज्यादा फायदे आपके शरीर को मिलेंगे ( shatavari ke fayde )

इन सामग्रियों की जरूरत पड़ेगी

  1. शतावरी पाउडर – 5 ग्राम
  2. दूध 1/2 kg
  3. घी – 1 चमच
  4. शहद – 2 चमच

सबसे पहले आप 1/2 kg दूध को गैस पर चढ़ाकर उसे गर्म करें । अब उसमें 5 ग्राम शतावरी पाउडर डालें, 1 चम्मच घी डालें और 2 चम्मच शहद मिलाएं और इसे एक उबाल आने तक गर्म करते रहे । जब उबाल आ जाए तो इसे उतार ले और अब इसे थोड़ा ठंडा करके पी जाए । यह तरीका शतावरी के सेवन का सबसे सही और असरदार तरीका है जिससे आपको सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा ।

किस समय करना चाहिए इसका सेवन

शतावरी का सेवन सुबह खाली पेट में ही करना चाहिए इसके पीछे यह कारण है कि आयुर्वेद में कहा गया है कि जितनी भी भारी गुणों वाली चीजें होती है उनका सेवन सुबह में ही करना चाहिए तभी इनका पूर्ण फायदा आपके शरीर को होता है ( shatavari ke fayde milenge ) । इसलिए सुबह उठकर खाली पेट में इस शतावरी वाले दूध का सेवन करना है ।

सुबह आपका पेट खाली रहेगा तो शतावरी आपके शरीर में अच्छी तरह से घुलेगी और आपके शरीर को इसका पूरा फायदा मिलेगा । ध्यान रहे कि आप शतावरी के सेवन के 2 घंटे तक किसी अन्य चीज का सेवन नहीं करेंगे । रात में शतावरी का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि रात में इसका सेवन करने से इसका पूरा फायदा आपके शरीर को नहीं मिलता ।

शतावरी को खाने वाले ध्यान रखें यह बातें

शतावरी को खाने वाले ध्यान रखें यह बातें

1) प्रकृति का नियम है कि किसी भी चीज़ का यदि जरूरत से अधिक इस्तेमाल किया जाए तो इसका नकारात्मक प्रभाव शरीर पर पड़ता है उसी प्रकार आपको ज्यादा शतावरी का सेवन भी नहीं करना है वरना आपको इसके साइड इफेक्ट्स भी झेलने पड़ सकते हैं इसलिए आपको 1 दिन में 5 ग्राम से ज्यादा शतावरी का सेवन नहीं करना है और दिन में सिर्फ एक बार ही सुबह में इसका सेवन करना है रात में नहीं ।

2) शतावरी में पोटेशियम की अधिक मात्रा होती है और यदि आप हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं तो आपको शतावरी का सेवन नहीं करना चाहिए शतावरी के सेवन से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है, आपको चक्कर आ सकते हैं और आपको उल्टी भी हो सकती है । ये भी पढ़ें – 10 High bp control tips in hindi |

3) बाजार में कई नकली शतावरी भी मौजूद है जिनसे आपको बचना चाहिए किसी अच्छी कंपनी का जैसे कि पतंजलि ( shatavari churna patanjali ) या बैद्यनाथ के द्वारा बनाए गए शतावरी पाउडर का इस्तेमाल ही करें । ऊपर दिए गए लिंक से आप शतावरी पाउडर खरीद सकते हैं यह शतावरी पाउडर अच्छी क्वालिटी का है जिसे हेल्थ के नुस्खे के द्वारा सुझाया गया है या उससे बेहतर होगा कि आप पंसारी की दुकान से शतावरी की जड़े खरीद कर ले आए और उसे खुद मिक्सर में पीसकर इस पाउडर को बना ले ।

4) अगर आप चाहते हैं कि शतावरी का ज्यादा से ज्यादा फायदा ( shatavari ke fayde ) आपके शरीर को मिले तो आप रात में त्रिफला का सेवन अवश्य करें । त्रिफला चूर्ण के बारे में हमने  बहुत ही विस्तृत जानकारी दी है – यहां क्लिक कर पढ़ें । इससे यह होगा कि आपका पाचन तंत्र सुबह तक अच्छी तरह से साफ हो जाएगा और जब आप सुबह में शतावरी का सेवन करेंगे तो आपका पेट और आपका पाचन तंत्र इसे अच्छी तरह पचा देगा और आपके शरीर में यह अच्छी तरह घुल जाएगा ।

Leave a Comment

close