Sahjan ke fayde, upyog aur nuksan – सहजन के फायदे, उपयोग और नुकसान

‘ सहजन ‘ आपने ये नाम तो सुना ही होगा, कई जगहों पर इसे ‘ मुनगा ‘ भी कहा जाता है | सहजन के औषधीय गुण बहुत कम ही लोग जानते है | आप जानकर शायद चौंक जाएँगे पर आयुर्वेद में सहजन का इस्तेमाल शरीर की कमजोरियों, कुपोषण और बीमारियों को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है | आज हम आपको Sahjan ke fayde, उपयोग और उसके नुकसानों के बारे में बताएंगे |

सहजन एक बहुत ही गुणकारी पेड़ है जिसके पत्ते, फूल और फल तीनों ही खाने के काम आते हैं और यह तीनों ही vitamins और minerals से समृद्ध हैं | सहजन के पत्ते के फायदे भी ढेर सारे है | आज healthkenuskhe के इस लेख में आप जानेंगे सहजन के बारे में सब कुछ और क्यों आपको सहजन का सेवन अवश्य करना चाहिए | तो आइये सबसे पहले जान लेते हैं सहजन क्या है ?

सहजन क्या है

सहजन क्या है ?

सहजन का वैज्ञानिक नाम ‘ Moringa Oleifera ‘ है | सहजन भारत में पाया जाने वाला एक फल है जो गुणों से भरपूर होता है | आपको जानकर हैरानी होगी पर सहजन का सबसे ज़्यादा उत्पादन भारत में ही होता है इसलिए भी यह भारत के लोगों की सेहद के लिए ज़्यादा अच्छा माना जाता है |

सहजन की सबसे ख़ास बात ये है की यह बहुत तेज़ी से बड़ा होता है और इसके पत्ते, फूल और फल तीनों का सेवन किया जाता है | सहजन को अंग्रेजी में ‘ Drumstick ‘ भी कहा जाता है | अब आइए जानते हैं कि आखिर हम सहजन की इतनी तारीफ कर क्यों रहे हैं | सबसे पहले जान लेते हैं कि इसमें कौन कौन से तत्व पाए जाते हैं |

सहजन में पाए जाने वाले nutrients

सहजन में पाए जाने वाले nutrients

पौष्टिक तत्व   मात्रा
पानी 88.2 ग्राम
एनर्जी 37 केसीएल
एनर्जी 155 केजे
प्रोटीन 2.1 ग्राम
टोटल लिपिड (फैट) 0.2 ग्राम
ऐश 0.97 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट, बाय डिफरेंस 8.53 ग्राम
फाइबर, टोटल डाइटरी 3.2 ग्राम
कैल्शियम 30 मिलीग्राम
आयरन 0.36 मिलीग्राम
मैग्नीशियम 45 मिलीग्राम
फास्फोरस 50 मिलीग्राम
पोटैशियम 461 मिलीग्राम
सोडियम 42 मिलीग्राम
जिंक 0.45 मिलीग्राम
कॉपर 0.084 मिलीग्राम
मैंगनीज 0.259 मिलीग्राम
सेलेनियम 0.7 माइक्रोग्राम
विटामिन सी, टोटल एस्कॉर्बिक एसिड 141 मिलीग्राम
थायमिन 0.053 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन 0.074 मिलीग्राम
नियासिन 0.62 मिलीग्राम
पैंटोथैनिक एसिड 0.794 मिलीग्राम
विटामिन बी-6 0.12 मिलीग्राम
फोलेट, टोटल 44 माइक्रोग्राम
फोलिक एसिड 0 माइक्रोग्राम
फोलेट, फूड 44 माइक्रोग्राम
फोलेट, डीएफई 44 माइक्रोग्राम
विटामिन बी-12 0 माइक्रोग्राम
विटामिन ए, आरएई 4 माइक्रोग्राम
रेटिनॉल 0 माइक्रोग्राम
विटामिन ए , आईयू 74 आईयू(IU)
विटामिन डी (डी2 +डी3) 0 माइक्रोग्राम
विटामिन डी 0 आईयू (IU)
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड 0.033 ग्राम
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड 0.102 ग्राम
फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड 0.003 ग्राम
फैटी एसिड, टोटल ट्रांस 0 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल 0 मिलीग्राम
अल्कोहल, एथिल 0 ग्राम

sahjan ke fayde

सहजन के फायदे – sahjan ke fayde

1) Anaemia – सहजन में Iron की समृद्ध मात्र होती है इसलिए अगर किसी को खून की कमी है या खून में Haemoglobin की कमी है तो उन लोगों को बिना सोचे समझे healthkenuskhe के नुस्खे की बात मानकर सहजन का सेवन शुरू कर देना चाहिए, 1 महीने में उनकी समस्या ठीक हो जाएगी |

ये भी पढ़ें – खून की कमी होने के कारण, लक्षण और उपाय

2) हड्डियाँ – सहजन में में Calcium और Phosphorus प्रचुर मात्र में पाया जाता है इसलिए सहजन हड्डियों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है | अगर किसी चोट की वजह से आपकी हड्डियाँ टूट गई हैं या fracture आ गया है तो आप सहजन का सेवन करना शुरू कर दें आपकी टूटी हड्डी जल्दी ठीक हो जाएगी |

3) वजन – सहजन आपका जितना वजन होना चाहिए उतना कर देता है | अगर किसी वजह से आपका वजन बढ़ गया हो या किसी वजह से आपका वजन बढ़ न रहा हो तो आप बस 3 महीने तक सहजन का सेवन शुरू कर दें आपका वजन जितना होना चाहिए हो जाएगा |

4) Immunity – Immunity का मज़बूत होना हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ही ज़रूरी होता है क्योंकि Immunity  हमारे शरीर का वो अदृश्य कवच है जो हानिकारक bacteria और virus से बचाता है | सहजन में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर की Immunity को मज़बूत कर देते हैं |

5) Heart attack – अगर family history ह्रदय रोग की है तो आपको अपनी diet में सहजन की पत्तियों को अवश्य शामिल करना चाहिए | सहजन की पत्तियों में beta-kerotine antioxidant होता है जो bad cholestrol को कम करता है और heart attack से बचा कर रखता है |

ये भी पढ़ें – हार्ट अटैक के लक्षण, कारण और इससे बचने के उपाय

7) Diabetes – Diabetes के मरीजों को अक्सर सहजन की पत्तियां खाने की सलाह दी जाती है | सहजन की पत्तियों में anti-diabetic गुण पाया जाता है जो खून में blood sugar level को control में रखता है |

ये भी पढ़ें – डायबिटीज के लक्षण और इलाज

9) लिवर – कई बार ख़राब खान पान की आदतों की वजह से लिवर toxins से भर जाता है जो स्वस्थ्य के लिए अच्छा नहीं है | सहजन की पत्तियों का सेवन करने से लिवर के toxins बहार निकल जाते हैं और लिवर साफ़ हो जाता है |

10) कुपोषण – आपको जानकर शायद हैरानी होगी पर भारत में कई राज्य सरकारों के द्वारा कुपोषण को दूर करने के लिए बच्चों को सहजन की पत्तियों का powder खिलाया जाता है | जो बच्चे शारीरिक तौर पर कमज़ोर हैं उन बच्चों को सहजन खिलाने से वह तंदरुस्त हो जाते हैं |

11) बालों के लिए – सहजन में vitamin-C, antioxidant जैसे तत्व पाए जाते हैं जो बालों के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं | अगर आपको hairfall की समस्या है तो आप बस सहजन की पत्तियों का सेवन करना शुरू कर दें आपके बालों की समस्या ठीक होने लग जाएगी |

12) त्वचा के लिए – सहजन की सबसे ख़ास बात ये है की इसमें antioxidant समृद्ध मात्रा में पाया जाता है | सहजन के सेवन से आपके शरीर में खून की मात्र बढ़ जाती है जिसके कारण चेहरे पर चमक आ जाती है और त्वचा भी निखरती है |

अब आप sahjan ke fayde जान चुके होंगे और अब हम आपको बताएंगे कि आप किस प्रकार से सहजन का उपयोग कर सकते है | तो चलिए इस बारे में भी जानकारी प्राप्त करते है |

सहजन का उपयोग

सहजन का उपयोग

1) सहजन के पत्तों का साग – भारत में सहजन के पाटों का सबसे ज़्यादा सेवन किया जाता है | सहजन के पाटों का साग बनाकर खाने से यह काफ़ी फायदा पहुंचता है इसके लिए आप सहजन के पाटों का तोड़कर इसे उबाल दें और साग की तरह खाएँ |

2) सहजन के आतों को दाल में डालकर – यह सहजन के पत्तों को खाने का सबसे स्वादिष्ट तरीका माना जाता है | इसके लिए जब आप दाल बनें तो उस दाल में ही सहजन के पत्तों को तोड़कर दाल दें | इससे दाल स्वादिष्ट और फायदेमंद दोनों बन जायेगा | जिन लोगों को खून की कमी या कुपोषण की समस्या होती है उन्हें इसी तरीके से सहजन का सेवन करना चाहिए |

3) सहजन के फूल की सब्जी – सहजन के फूल का सेवन भारत में सब्जी के रूप में किया जाता है | यह जितना खाने में स्वादिष्ट होता है उतना ही गुणकारी होता है | जिन लोगों को hypertension की शिकायत है उन लोगों को इस तरीके से सहजन का सेवन करना चाहिए |

4) सहजन के फल की सब्जी – सहजन के फल की सब्जी भी उसी प्रकार बनाई जाती है जैसे की अन्य सब्जियाँ बनती हैं | यदि आप youtube पर search करेंगे तो आपको इसे बनाने की recipe आसानी से मिल जाएगी | सहजन का फल उन लोगों के लिए सबसे अच्छा माना जाता है जिनको मष्तिष्क से सम्बंधित समस्या होती है |

सहजन से नुकसान

सहजन से नुकसान

सहजन से नुकसान उन्हीं लोगों को होंगे जिनके बारे में हमने नीचे बताया है |

1) गर्भवती महिला – गर्भवती महिलाओं को सहजन का सेवन करने से परहेज़ करना चाहिए क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है |

2) लो ब्लड प्रेशर – सहजन का सेवन blood pressure कम करता है इसलिए जिन लोगों को low blood pressure की समस्या है उन लोगों को सहजन का सेवन करने से बचना चाहिए |

ये भी पढ़ें – लो ब्लड प्रेशर के लक्षण, कारण और इलाज

3) Diabetes के मरीज – अगर आप diabetes के मरीज़ हैं तो आपको सहजन का सेवन करना है पर बहुत ज़्यादा मात्र में नहीं क्योंकि ज़्यादा मात्र में सेवन करने से blood sugar level कम हो सकता है जो सेहद के लिए अच्छा नहीं है |

दोस्तों, उम्मीद करते हैं की आपको आपके सवालों का जवाब मिल गया होगा | अगर आपके मन में सहजन से सम्बंधित कोई और भी सवाल है तो comment box में पूछें मैं आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करूँगा | healthkenuskhe को subscribe करना ना भूलें ताकि आपको ऐसी ही health से जुड़ी ज़रूरी जानकारियाँ रोज़ मिल सके और आप हमेशा स्वस्थ और खुश रह सकें |

1 thought on “Sahjan ke fayde, upyog aur nuksan – सहजन के फायदे, उपयोग और नुकसान”

Leave a Comment