Pregnancy rokne ke upay hindi me – प्रेग्नेंसी रोकने के 10 घरेलू तरीके

आज हम जानेंगे प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू तरीके ( pregnancy rokne ke upay hindi me ) | कई बार शादीशुदा कपल या दो पार्टनर अपने जीवन को एंजॉय करना चाहते हैं और शुरुआती के सालों में उन्हें बच्चे की चाहत नहीं होती पर संभोग के दौरान निरोध का इस्तेमाल ना करने की वजह से कई बार प्रेगनेंसी रुकने की संभावना बढ़ जाती है ।

ऐसे में ना चाहते हुए भी महिलाओं गर्भवती हो जाती है ऐसे में महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियां खाकर गर्भपात करना एक साधारण सी बात मानती है | उन्हें लगता है कि इसका कोई भी दुष्प्रभाव उनके शरीर पर नहीं पड़ता पर आपको बता दें कि एक रिपोर्ट के अनुसार ज्यादा समय तक गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करना महिलाओं में बच्चे को जन्म देने की क्षमता को कम कर देता है ।

यदि ज्यादा सालों तक लगातार गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन किया जाए तो ऐसी संभावना है कि वह स्त्री बच्चे पैदा करने की शक्ति भी गवा दे । ऐसे में अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सुरक्षित संभोग ही एकमात्र तरीका बन जाता है पर यदि आप कुछ घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करें तो आप अनचाहे गर्भ को रोक सकते हैं |

हालांकि इन सभी का 100% परिणाम नहीं होता है पर 80 से 90% तक यह घरेलू नुस्खे अवश्य काम करते हैं और आपको इनका उपयोग करके अवश्य देखना चाहिए क्योंकि इनका आपके शरीर पर कोई भी साइड इफ़ेक्ट नही होता ।

प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू तरीके

प्रेग्नेंसी रोकने के 10 घरेलू तरीके – Pregnancy rokne ke gharelu upay

1)अदरक – अदरक की तासीर बेहद गर्म होती है और गर्म चीज गर्भधारण करने के लिए अच्छी नहीं होती । यदि आप 50 ग्राम अदरक को अच्छी तरह कूटकर उसे एक गिलास पानी में उबाल दें और उसे छानकर और शहद मिलाकर दिन में दो बार पिए तो यह आपके अनचाहे गर्भ को रोक सकता है ।  पढ़ें – Adrak ke fayde |

2) पपीता – पपीता भी एक प्राकृतिक गर्भनिरोधक के तौर पर काम करता है । यदि एक महिला संभोग के 3 से 4 दिन तक दिन में दो बार पपीते का सेवन करें तो गर्भधारण करने की संभावना बेहद कम हो जाती है । वहीं यदि पुरुष पपीते का सेवन करते हैं तो उनके शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ जाती है पर जैसे ही आप पपीते का सेवन करना छोड़ देते हैं शुक्राणुओं की संख्या सामान्य हो जाती है ( pregnancy rokne ke upay hindi me )

3) अनानास – अनानास का सेवन भी अनचाहे गर्भ को रोक सकता है और यह बेहद कारगर भी होता है । कई महिलाएं जो इस बारे में जानकारी रखती हैं वह इसका इस्तेमाल अक्सर किया करती है इसके लिए आप संभोग के बाद 2 से 3 दिन तक दिन में दो से तीन बार अनारस का सेवन करे | आपका गर्भ धारण नहीं होगा ( pregnancy rokne ke upay hindi me )

4) रतालू – रतालू एक ऐसा फल है जिसका सेवन यदि प्रतिदिन महिलाएं करना शुरु करती है तो यह एक प्रकार का प्राकृतिक गर्भनिरोधक की तरह काम करता है और महिलाओं के शरीर में जाने वाले शुक्राणुओं को निष्क्रिय कर देता है जिसके कारण गर्भ धारण करना मुश्किल हो जाता है और महिलाएं अनचाहे गर्भ से बाच सकती हैं ( pregnancy rokne ke upay hindi me )

5) दालचीनी – दालचीनी की तासीर भी काफी गर्म होती है और यदि महिलाएं दालचीनी का सेवन संभोग के 2 से 3 दिन तक दिन में दो बार करें तो गर्भधारण बिल्कुल नहीं होता इसके लिए आप 10 ग्राम दालचीनी ले और उसे अच्छी तरह कूटकर एक गिलास पानी में अच्छी तरह उबाल लें अब इसे छानकर दिन में दो से तीन बार पिए गर्भधारण नहीं होगा ।

6) हींग – हींग की तासीर भी बेहद गर्म होती है । यदि आप चाहती हैं कि आपका गर्भ धारण ना हो तो आप संभोग के 2 से 3 दिन तक हींग को सब्जी में डालकर या किसी अन्य प्रकार से इसका सेवन करें आपका गर्भधारण नहीं होगा ( pregnancy rokne ke upay hindi me )

7) शलजम – शलजम का प्रयोग गर्भधारण को निष्क्रिय कर देता है । यदि संभोग के 2 से 3 दिन तक शलजम का उपयोग आप दिन में दो बार करें तो आपको गर्भधारण होने में कठिनाई होगी ।

8) अंजीर – अंजीर भी एक प्रकार का ड्राई फ्रूट है जो काफी गर्म होता है । यदि महिलाएं संभोग के 2 से 3 दिन तक दिन में दो से तीन बार दो-दो अंजीर का सेवन भी करें तो गर्भधारण को रोकने में मदद मिलती है ( pregnancy rokne ke upay hindi me )

9) नीम नीम भी अनचाहे गर्भ को रोकने का एक बहुत ही कारगर उपाय होता है । यदि संभोग के सिर्फ 3 दिन तक दिन में दो बार नीम का रस पिया जाए तो यह गर्भाशय में मौजूद शुक्राणुओं को मार देता है जिसके कारण गर्भधारण नहीं हो पाता । नीम के तेल का इंजेक्शन गर्भ में लेने से भी अनचाहे गर्भ धारण से बचा जा सकता है ।

10) विटामिन-C के कैप्सूल कई विशेषज्ञ अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए विटामिन-C की गोलियों को खाने की सलाह भी देते हैं । ऐसा इसलिए क्योंकि विटामिन-C गर्भपात की संभावना को बढ़ा देता है । विटामिन-C के सेवन से प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन प्रभावित होता है जिससे गर्भधारण को रोकने में मदद मिलती है ( pregnancy rokne ke upay hindi me ) । यदि संभोग के 2 से 3 दिन तक दिन में दो बार 1500MG की विटामिन-C की गोलियां खाई जाए तो यह गर्भधारण को काफी मुश्किल बना देता है ।

इसे भी पढ़ें – विशेषज्ञ बताते हैं कि यदि पीरियड्स के पहले संभोग किया जाए तो गर्भधारण होने की संभावना बेहद कम होती है वहीं पीरियड के तुरंत बाद संभोग करने से गर्भधारण की संभावनाएं बहुत ज्यादा बढ़ जाती है | इसलिए पीरियड्स के बाद जब भी संभोग करें तब निरोध ( कंडोम ) का इस्तेमाल अवश्य करें ।

कुछ सवाल और हमारे जवाब

निरोध का इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं – pregnancy kaise roke ?

निरोध का इस्तेमाल प्रेगनेंसी को रोकने का सबसे बेहतरीन तरीका होता है । जब आप निरोध का इस्तेमाल करते हैं तो यह 100% गारंटी होती है कि आपको गर्भधारण नहीं होगा और निरोध का इस्तेमाल करने से आपके शरीर पर इसका किसी प्रकार का दुष्प्रभाव भी नहीं पड़ता।

गर्भनिरोधक गोलियां खानी चाहिए या नहीं – pregnancy rokne ke upay hindi me ?

गर्भनिरोधक गोलियों का कभी कबार सेवन किया जा सकता है पर हर रोज इसका सेवन करने से इसका साइड इफेक्ट आपके शरीर पर पड़ सकता है और लंबे समय तक गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन आपके बच्चे पैदा करने की क्षमता को खत्म भी कर सकता है इसलिए संभोग के दौरान ही निरोध ( कंडोम ) का इस्तेमाल करना ज्यादा बेहतर उपाय है ।

क्या कॉपर-टी एक बेहतर विकल्प हो सकता है – pregnancy rokne ke liye upay ?

हां, कॉपर-टी प्रेगनेंसी को रोकने के लिए एक अच्छा विकल्प जरूर है पर दुनिया में कई ऐसे मामले भी सामने आ चुके हैं कि कॉपर-टी का इस्तेमाल करने के बावजूद भी महिलाएं गर्भवती हुई है तो ऐसा बिल्कुल नहीं है कि अगर आपने कॉपर-टी का इस्तेमाल किया तो आप गर्भवती नहीं होंगी । पर गर्भनिरोधक गोलियाँ खाने से बेहतर है कि आप कॉपर-टी का उपयोग करें ।

दो बच्चों के जन्म के बीच कितने वर्षों का गैप होना चाहिए ?

विज्ञान के अनुसार यदि आप स्वस्थ बच्चों की कामना करते हैं तो आपको अपने दो बच्चों के बीच कम से कम 3 वर्षों का गैप अवश्य रखना चाहिए क्योंकि जब एक मां बच्चे को जन्म देती है तो उनके शरीर में कई तत्वों की कमी हो जाती है और मां मालनूट्रिशन का शिकार हो जाती है । बच्चे के जन्म के 3 साल बाद तक मां का शरीर रिकवर कर चुका होता है और अगले बच्चे को जन्म देने के लिए माँ का शरीर तैयार होता है | इसलिए अपने दो बच्चों के बीच 3 साल का गैप अवश्य रखें ।

प्रेगनेंसी के लक्षण क्या होते हैं – pregnancy ke lakshan ?

सबसे ज्यादा आम लक्षण होता है पीरियड्स मिस हो जाना पर इसके अलावा छाती में जलन, कब्ज़, थकान, उल्टी, पेट दर्द जैसे लक्षण भी सामने आते हैं ऐसे में आप एक प्रेगनेंसी किट खरीद कर चेक कर सकती हैं आपको आसानी से पता चल जाएगा ।

महिलाओं को कितनी उम्र में मां बनना चाहिए ?

विज्ञान के अनुसार महिलाओं का शरीर 18 साल के बाद मां बनने के लिए बिल्कुल तैयार हो जाता है और महिलाएं 35 वर्ष तक एक स्वस्थ और सुरक्षित मां बन सकती है पर ज्यादा उम्र हो जाने के बाद महिलाओं का मां बनना सुरक्षित नहीं माना जाता क्योंकि ऐसे में उम्र के साथ-साथ शरीर कमजोर होता जाता है और मां की जान को खतरा भी हो सकता है इसलिए 18 से लेकर 35 वर्ष तक की उम्र माँ बनने के लिए सबसे बेस्ट मानी जाती है ।

1 thought on “Pregnancy rokne ke upay hindi me – प्रेग्नेंसी रोकने के 10 घरेलू तरीके”

Leave a Comment

close