Neend na aane ke karan aur upchar – नींद न आने के कारण और अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार

क्या आपको भी नींद नहीं आती, क्या आप भी बिस्तर पर करवटें बदलते रहते हैं और घंटो बीत जाते हैं फिर भी आपको रात में नींद नहीं आती तो आप बिल्कुल सही लेख पढ़ रहे हैं । Neend na aana एक गंभीर समस्या है और neend na aane ke karan कई हो सकते है जिसके बारे में आज हम इस लेख में जानेंगे । अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार क्या है इस बारे में भी हम चर्चा करेंगे ।

एक स्टडी में यह बात सामने आ चुकी है कि जो लोग 7 से 8 घंटे की नींद लेते हैं उनकी तुलना में कम नींद लेने वाले लोग लोगों की आयु 12% तक कम हो जाती है । यही नहीं उस रिसर्च में कुछ ऐसी बातें भी सामने आई जिसे जानकर आप भी चौंक जाएंगे इसलिए अगर आप भी 7 से 8 घंटे की नींद नहीं लेते हैं और अनिद्रा से ग्रस्त हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें वरना आपको भी पछताना पड़ सकता है ।

what is Insomnia in hindi

अनिद्रा क्या है – What is Insomnia in hindi ?

अनिद्रा को अंग्रेजी में ‘ Insomnia ‘ भी कहा जाता है । अनिद्रा एक प्रकार की समस्या है जिसमें इंसान को नींद आनी कम हो जाती है । दरअसल Melatonin नाम का एक hormone होता है जो हमारी नींद के लिए ज़िम्मेदार होता है । अगर किसी वजह से यह hormone निकलना कम हो जाए तो नींद में कमी आने लगती है ।

नींद पूरी ना होने की वजह से Hypertension, Mood swings, सर में दर्द होना, मोटापा, Hairfall आदी जैसी समस्याएं शुरू होने लग जाती है | इसलिए भी अनिद्रा को नजरअंदाज करना बेवकूफी है । अनिद्रा एक बहुत ही गंभीर समस्या है और नींद न आने के कारण कुछ भी हो सकते हैं जिसका इलाज आपको अवश्य करना चाहिए और आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि neend na aane ke karan क्या है और आप कैसे इसका इलाज कर सकते है ।

neend na aane ke karan

नींद न आने के कारण – neend na aane ke karan

1) तनाव – नींद न आने का कारण तनाव भी हो सकता है क्योंकि जब आप तनाव में होते हैं तो आपके खून में कोर्टिसोल की मात्रा बढ़ जाती है, आपकी heart beat भी तेज हो जाती है जिसके कारण आपका blood pressure बढ़ने लगता है और नींद नहीं आती । इसलिए तनाव से दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए । ज्यादा तनाव के कारण शरीर मे diabetes, hypertension, heart attack जैसी बीमारियाँ पैदा हो सकती हैं इसलिए तनाव से दूर रहें ।

ये भी पढ़ें – तनाव कैसे दूर करें

2) फोन और कंप्यूटर का ज़्यादा इस्तेमाल – जब से दुनिया digital हुई है तब से smartphone और computers का उपयोग बहुत तेज़ी से बढ़ा है । जिसका सीधा असर लोगों की सेहद पर पड़ रहा है । computers और smartphones की screen से blue light निकलती है जो हमारी आंखों के लिए नुकसानदायक तो होता ही है पर यह हमारी नींद को भी प्रभावित करता है ।

जब हम ज्यादा screens का इस्तेमाल करते हैं तो हमारे दिमाग मे Melatonin नाम का hormone कम बनने लगता है। Melatonin वो hormone है जिसके कारण नींद आती है । screen का इस्तेमाल कम करें या कम से कम रात में सोते समय smartphone का इस्तेमाल बिल्कुल ना करें ।

3) देर रात तक जागना – प्रकृति ने दिन का समय जागने के लिए बनाया है और रात का समय सोने के लिए पर आज के समय में जैसे-जैसे दुनिया advanced होती चली जा रही है लोग दिन में सो रहे हैं और रात में जग रहे हैं । जो उनके शरीर के hormones को disbalance कर रहे हैं ।

हमारे शरीर में एक body cycle होती है जो हमें बताती है कि हमें कब सोना है और कब उठना है पर जब आप देर रात तक जबरदस्ती जागना शुरू करते हैं तो यह body cycle प्रभावित होने लगती है जिसके कारण धीरे-धीरे हमें रात में जल्दी नींद नहीं आती और हमारी sleep cycle बिगड़ जाती है और यह भी अनिद्रा का एक बड़ा कारण है ।

4) ज़्यादा चाय और कॉफी पीना – आज के समय में लोग चाय और कॉफी का सेवन बहुत ज्यादा करने लगे हैं । चाय और कॉफी में caffeine और Tannin नाम का केमिकल होता है जो दिमाग में Melatonin की मात्रा को कम करता है और शरीर में Cortisol की मात्रा को बढ़ाता है जिसके कारण आपको नींद नहीं आती । आपको ध्यान रखना है कि आप रात में सोने से पहले चाय या कॉफी का सेवन बिल्कुल ना करें वरना आपको नींद आने में problem हो सकती है ।

5) दवाई का side effect – कई मामलों में ऐसा देखा गया है कि दवाइयों के side effect के तौर पर कभी ज्यादा नींद आने लगती है या तो नींद आनी कम हो जाती है । ऐसा तब होता है जब गलत दवाइयां ली जाए या फिर उसकी मात्रा गलत हो जाए तो side effect के रूप में अनिद्रा, थकान, चिड़चिड़ापन जैसे लक्षण दिखाई पड़ने लगते हैं इसलिए भी आपको ज्यादा अंग्रेजी दवाओं को खाने से बचना चाहिए या डॉक्टर के सलाह के बिना किसी भी अंग्रेज़ी दवा का सेवन नहीं करना चाहिए ।

6) मौसम में बदलाव – कई बार मौसम में बदलाव आने के कारण जैसे कि अचानक बहुत ज्यादा गर्मी आ जाना या अचानक ठंड बढ़ जाना भी नींद ना आने का एक कारण बन सकती है क्योंकि जब अचानक से मौसम में बदलाव आ जाता है तो तापमान में भी बदलाव आ जाता है जिसके कारण शरीर को adjust करने में समय लगता है ।

अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार

अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार

1) अश्वगंधा – अश्वगंधा को मेद्य रसायन भी कहा जाता है, ऐसा कहा जाता है कि अश्वगंधा से बहुत बड़ी-बड़ी बीमारियां ठीक की जा सकती हैं । अश्वगंधा में कुछ ऐसे flavenoids पाए जाते हैं जो आपके blood में cortisol की मात्रा को कम करता है और आपके stress को कम कर देता है । साथ ही अगर आपको अनिद्रा की समस्या है तो अश्वगंधा उसे भी ठीक कर देता है । यदि आप लगातार सिर्फ 7 दिन तक भी अश्वगंधा का सेवन करते हैं तो आपकी अनिद्रा की समस्या पूरी तरह से ठीक हो जाती है ।

ये भी पढ़ें – अश्वगंधा चूर्ण के फायदे और नुकसान

खाने का तरीका

रात में सोने से आधा घंटा पहले एक गिलास गाय की गर्म दूध में 1/2 चम्मच अश्वगंधा पाउडर मिलाकर इसे पी जाए आप चाहें तो स्वाद के लिए इसमें 1 चमच शहद भी मिला सकते हैं ।

2) हल्दीवाला दूध – रात में गर्म दूध पीना गहरी नींद के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है पर यदि इस दूध में 1/2 चम्मच हल्दी मिला दिया जाए तो यह आपके नींद को और भी बेहतर बना देता है । साथ ही हल्दी में curcumin नाम का एक तत्व पाया जाता है जो brain को repair करने में मदद करता है ।

एक रिसर्च के अनुसार जो लोग हल्दी का सेवन करते हैं उन लोगों में दिमाग से संबंधित बीमारियां कम होती है । इसलिए अगर आप अनिद्रा के शिकार हैं और आपको नींद नहीं आती तो रोज रात में सोने से आधे घंटे पहले हल्दी वाला दूध पिए आपकी अनिद्रा की समस्या कुछ दिनों में ठीक हो जाएगी ।

ये भी पढ़ें – हल्दी के फायदे, उपयोग और नुकसान

खाने का तरीका

गाय के एक गिलास गर्म दूध में 1/2 हल्दी पाउडर मिलाएं और 1 चम्मच शहद मिला दे और इसे भी जाए ।

3) त्रिफला – कई बार शरीर में toxins होने के कारण या पेट खराब होने के कारण भी नींद में बाधा आती है और त्रिफला एक ऐसी औषधि है जो पेट की सारी बीमारियों को ठीक करता है और आपको गहरी नींद प्रदान करने में मदद करता है । अगर आप रोज त्रिफला का सेवन रात में करते हैं तो यह त्रिफला आपका ख्याल एक मां की तरह रखती है और यदि आप त्रिफला जीवन भर खाते हैं तो आपका पेट कभी भी खराब नहीं हो सकता और अगर आपको को constipation की शिकायत है तो आपको त्रिफला जरूर खाना चाहिए ।

ये भी पढ़ें – त्रिफला के 18 चमत्कारी फायदे

खाने का तरीका

रात में सोने से आधे घंटे पहले 1 गिलास गुनगुने पानी में 1 चम्मच त्रिफला पाउडर मिलाकर उसे पी जाए अगर आपको आलस ज़्यादा आता है तो आप उसमे 1 चमच शहद मिलाकर पीएं ।

गहरी नींद के लिए टिप्स

गहरी नींद के लिए टिप्स

1) सोने से 2 घंटे पहले ही अपने मोबाइल का इस्तेमाल करना छोड़ दें ।

2) रात में सोने से पहले गर्म पानी से स्नान करने से नींद गहरी आती है ।

3) रात में सोने से पहले अपने पैरों के तलवों की तेल से मालिश करें इससे भी गहरी नींद आने में मदद मिलती है ।

4) रात में पेट भर के भोजन ना करें वरना नींद आने में दिक्कत हो सकती है ।

5) रात में non-veg का सेवन ना करें इससे भी नींद में बाधा आती है ।

6) रात में सोने से पहले toilet जरूर कर लें ताकि आपको बीच नींद में ना उतना पड़े ।

7) सोने से पहले बहुत ज्यादा पानी ना पिए वरना आपको बीच नींद में उठकर toilet जाना पड़ सकता है ।

Leave a Comment