Maida side effects in hindi – मैदा खाने के 10 बड़े नुकसान

मैदा जो आज के समय में junk food का सबसे अहम हिस्सा है । Junk food में आप कुछ भी देख लीजिए ज्यादातर चीजें मैदे से ही बनी होती है । मैदे की सबसे बुरी बात है कि यह आंतों में जाकर चिपक जाता है और Constipation जैसी समस्याएं पैदा करता है । आज healthkenuskhe के इस लेख में हम जानेंगे कि आखिर मैदा क्या है और मैदा खाने के क्या नुकसान है – maida side effects in hindi

मैदा क्या है

मैदा क्या है – what is white flour in hindi ?

मैदा को अंग्रेजी में ‘ White flour ‘ भी कहा जाता है । मैदा भी गेंहू से बनाया जाता है । मैदा बनाने के लिए सबसे पहले गेहूं को अच्छे से धोया जाता है । उसके बाद गेहूं के ऊपरी परत यानी कि उसके छिलके को हटा दिया जाता है और फिर इसे पूरा महीन पीस दिया जाता है । सफेद पीसा हुआ भाग ही मैदा कहलाता है । एक बात जान लीजिए कि आटे और मैदे में सिर्फ एक ही फर्क होता है कि आटे में चोकर होता है और मैदे में चोकर नहीं होता | चोकर का मतलब है गेहूँ के दाने का छिलका ( बाहरी परत ) । आइए अब जानते हैं कि मैदा खाने के क्या नुकसान है ।

maida side effects in hindi

मैदा खाने के नुकसान – maida side effects in hindi

1) Constipation – मैदा बनाते समय गेहूं के चोकर को निकाल दिया जाता है । जिसके कारण मैदे में फाइबर की मात्रा शून्य हो जाती है और मैदा एक ऐसा खाद्य पदार्थ बन जाता है जो आंतों में चिपकने लगता है । यदि आप ज्यादा मैदे से बनी चीजों का सेवन करेंगे तो आपको Constipation यानी कि कब्ज होने की समस्या ज्यादा होगी ।

2) Immunity करे कमजोर – NCBI की एक रिपोर्ट में यह बात सामने आ चुकी है कि मैदे के लगातार सेवन करने से Immunity कमजोर होती है । इसके पीछे यह तर्क दिया जाता है कि मैदे के सेवन से पेट खराब हो जाता है और मैदे में Glutin होता है जो शरीर में जरूरी तत्वों को absorb नहीं होने देता और इस वजह से भी Immunity कमजोर होने लगती है ।

3) पाचनतंत्र करे कमजोर – मैदा कभी भी हमारे digestion के लिए अच्छा भोजन नहीं है । आज के समय में ज्यादातर लोग junk food का सेवन कर रहे हैं और junk food में मुख्यतः मैदे का इस्तेमाल होता है इसीलिए आज के युवाओं में कमजोर पाचनतंत्र की समस्या ज्यादा देखने को मिलती  है |

ये भी पढ़ें – पेट साफ करने के तरीके

4) पेट में gas – मैदे को पचा पाना इतना आसान नहीं होता है क्योंकि यह आंतों से कई बार चिपक जाता है । यदि आपके भोजन में सही मात्रा में fiber ना हो तो पेट और आपके पाचनतंत्र को भोजन पचाने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है और जब पूरा भोजन नहीं पचता तो पेट में वह भोजन सड़ने लगता है । इसकी वजह से पेट में gas और acidity जैसी समस्याएं होने लगती है । मैदे का सेवन करने से जिनका पेट सही है उनके पेट में भी गैस की समस्याएं शुरू हो जाती है ।

ये भी पढ़ें – गैस बनने के कारण और इलाज

5) Diabetes – साल 2017 में अमेरिका में हुई एक research में यह बात सामने आई थी कि मैदा Type-2 Diabetes का एक बहुत बड़ा कारक है । उस report में यह बात भी सामने आई कि अमेरिका में लगभग 10 करोड लोगों को Type-2 Diabetes की समस्या है और इसका सबसे बड़ा कारण है मैदा इसलिए यदि आप मैदे का सेवन ज्यादा करते हैं तो आपको इसका सेवन कम कर देना चाहिए क्योंकि यह Type-2 Diabetes होने की संभावना बढ़ा देता है ।

ये भी पढ़ें – डायबिटीज के लक्षण और इलाज

6) मोटापा – अमेरिका की एक स्टडी में यह बात सामने आई कि अमेरिका की 2/3 जनता मोटापे का शिकार है और इसका सबसे बड़ा कारण बताया गया junk food को जो मैदे से बनाया जाता है । दरअसल जब आप मैदे का सेवन ज्यादा करते हैं तो यह शरीर में fat oxidation को कम कर देता है । fat oxidation वह process है जिसके तहत शरीर की अतिरिक्त चर्बी burn होती है और शरीर में मोटापा नहीं आता ।

ये भी पढ़ें – मोटापा बढ़ने के कारण और इलाज

7) कमजोर हड्डीयाँ – मैदे को जब बनाया जाता है तो इसका छिलका उतार दिया जाता है जिसके कारण इसमें मौजूद सारे protiens और जरूरी minerals बाहर निकल जाते हैं जिसके कारण मैदा acidic बन जाता है | Acidic होने के कारण यह calcium को शरीर में absorb होने से रोकता है और शरीर के बाहर निकाल देता है जिसके कारण हड्डियों को सही मात्रा में calcium नहीं मिल पाता और हड्डियां कमजोर होने लगती हैं ।

8) गठिया – जैसा कि हमने आपको बताया कि मैदा खाने से शरीर में calcium सही तरह से absorb नहीं हो पाता जिसके कारण हड्डियों में calcium की कमी हो जाती है और calcium की कमी की वजह से गठिया जैसे रोग भी सामने आने लगते हैं । गठिया एक ऐसी समस्या है जिसमें हड्डियों के जोड़ों में तेज दर्द होने लगता है और यह एक काफी गंभीर समस्या मानी जाती है ।

9) Heart की बीमारियाँ – साल 2017 में अमेरिका में हुई एक स्टडी में एक बात सामने आई कि जो लोग ज्यादा carbohydrate का सेवन करते हैं उन लोगों में heart से संबंधित बीमारियां होने की संभावना ज्यादा होती है और मैदे में 90% carbohydrate होता है । इस वजह से भी आपको मैदे का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए या कम से कम करना चाहिए ।

ये भी पढ़ें – हार्ट अटैक के लक्षण, कारण और इससे बचने के 5 उपाय

10) Cancer – कई बार यह बात सामने आ चुकी है कि चीनी के सेवन से कैंसर की संभावनाएं बढ़ती है पर इस रिपोर्ट को चीनी बनाने वाली कई कंपनियों के द्वारा दबा दिया जाता है पर अब मैदे से कैंसर होने के बारे में भी कई reports सामने आ चुकी है । कई studies में यह बात साबित हो चुकी है कि जो लोग ज्यादा मैदे का सेवन करते हैं उन लोगों में Breast Cancer, Colon Cancer अथवा Endometrial Cancer होने की संभावना दोगुनी हो जाती है ।

ये भी पढ़ें – कैंसर के लक्षण और इलाज

मैदा खाने से पहले ये बातें जान लें

मैदा खाने से पहले ये बातें जान लें

1) आयुर्वेद में मैदे और चीनी को सफेद ज़हर की उपाधि दी गई है इसलिए अपने जीवन से इन 2 चीजों को जरूर निकालें ।

2) मैदे का इस्तेमाल सबसे ज्यादा junk food में या street food में किया जाता है | इसलिए आप junk food और street food खाना कम कर दे ।

3) जिन लोगों को Hypertension, Diabetes और Heart संबंधित रोग हैं उन लोगों को मैदे से बचना चाहिए क्योंकि यह उनकी बीमारी को और भी बढ़ा देता है ।

4) बहुत से लोग अब यह कहेंगे कि यदि मैदा ना खाएं तो क्या खाएं तो इसका जवाब है आप आटा खाएं क्योंकि आटा फाइबर से समृद्ध होता है |

5) अगर आपकी मजबूरी है कि आपको मैदा खाना ही पड़ेगा तो आप उसे बिल्कुल खाएं पर रोज रात में एक चम्मच त्रिफला पाउडर एक गिलास गुनगुने पानी के साथ लेना शुरू कर दें । त्रिफला लेने से मैदे का नुकसान कम हो जाता है क्योंकि त्रिफला आपके पेट में कभी भी Constipation होने ही नहीं देगा ।

ये भी पढ़ें – त्रिफला के चमत्कारी फायदे