डायबिटीज के लक्षण, कारण, इलाज और घरेलू उपचार – Diabetes ke lakshan, karan, ilaj aur gharelu upchar

डायबिटीज जिसे हिंदी में मधुमेह भी कहा जाता है, पहले भारत में यह बीमारी इतनी बड़ी और विकराल नहीं थी पर जैसे जैसे भारत के लोगों की जीवन शैली बिगड़ती चली गई उनका शरीर बीमारियों का घर बनता चला गया । आज भारत की कुल जनसंख्या का 11.8% लोग डायबिटीज से ग्रसित है जो एक चिंता का विषय है ।

डायबिटीज एक बहुत भयानक बीमारी भले ही ना हो पर एक बार अगर यह बीमारी किसी को हो जाए तो उम्र भर उस व्यक्ति का साथ नहीं छोड़ती । आज Healthkenuskhe के इस लेख में आप जानेंगे कि डायबिटीज क्या है, डायबिटीज के प्रकार और नुकसान क्या है ? हम आपको बताएंगे डायबिटीज के लक्षण, कारण, डायबिटीज का इलाज और मधुमेह के उपचार । इसलिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें क्योंकि अधूरी जानकारी सेहत के लिए खतरनाक हो सकती है ।

what is diabetes in hindi

डायबिटीज क्या है – What is diabetes in hindi ?

चलिए आपको सरल भाषा में समझाते हैं । हमारे शरीर में पेट के नीचे एक छोटा सा 4 इंच का अंग होता है जिसे pancreas कहा जाता है । इस अंग का काम होता है इंसुलिन नाम का एक हार्मोन का उत्पादन करना ।

इंसुलिन हार्मोन वो हार्मोन होता है जो हमारे द्वारा खाई गई शुगर को ग्लूकोज में परिवर्तित कर देता है ताकि हमारे खून में शुगर की मात्रा ज्यादा ना बढ़ सके पर जब यह अंग जिसे pancreas कहा जाता है काम करना बंद कर देता है और इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता तब हम जो शुगर खाते हैं वह glucose में परिवर्तित नहीं हो पाता और हमारे खून का शुगर लेवल बढ़ जाता है । इसे ही डायबिटीज कहते हैं । चलिए अब जानते है डायबिटीज के प्रकार ।

types in diabetes in hindi

डायबिटीज के प्रकार – types in diabetes in hindi

  • टाइप 1 डायबिटीज – यह डायबिटीज वंशानुगत होता है यानी कि यदि आपके वंश में डायबिटीज की समस्या चलती आ रही है तो पूरी संभावना है कि आपको भी यह बीमारी जरूर हो सकती है ।
  • टाइप 2 डायबिटीज – डायबिटीज लोगों के खराब जीवनशैली और खराब खान-पान की आदतों की वजह से होती है और ज्यादातर लोगों में टाइप 2 डायबिटीज ही पाई जाती है ।

डायबिटीज के नुकसान ढेरों है जिनके बारे में जानना आपके लिए जरूरी है, तो चलिए अब जानते है डायबिटीज के नुकसान

डायबिटीज के नुकसान

सुगर/डायबिटीज के नुकसान – Diabetes ke nuksan

1) किडनी – डायबिटीज से सबसे पहले किडनी को नुकसान पहुंचता है । आपको बता दें कि जो मरीज अपने शुगर लेवल को नियंत्रण में नहीं रखते उनकी किडनी धीरे-धीरे खराब होने लग जाती है । जब हमारे खून में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है तो शरीर में शुगर की मात्रा ज्यादा होने के कारण पेशाब ज्यादा लगती है और खून में बढ़ी शुगर की मात्रा किडनी से जब गुजरती है तो किडनी को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देती है और यदि लंबे समय तक इस पर ध्यान ना दिया जाए तो यह किडनी को ख़राब कर सकती है ।

2) आंखें – आप देखेंगे कि जिन लोगों को डायबिटीज हुआ है अचानक से उनकी नजरें धुंधली पड़ने लग जाती है क्योंकि खून में शुगर की मात्रा बढ़ने से आंखों की रोशनी कम होने लग जाती है और यदि शुगर लेवल को नियंत्रण में ना रखा जाए तो आपको मोतियाबिंद भी हो सकता है ।

ये भी पढ़ें – आंखों की रौशनी बढ़ाने के तरीके

3) त्वचा – ऐसा देखा जाता है कि जिन लोगों को डायबिटीज की समस्या होती है उन्हें यदि किसी प्रकार का घाव या चोट लग जाए तो वह आसानी से ठीक नहीं होता और धीरे-धीरे बढ़ता ही चला जाता है । डायबिटीज के मरीजों में 30% लोगों में त्वचा संक्रमण होता है, जिसमें शुष्क त्वचा, स्किन टैग और काले चकत्ते पड़ना भी शामिल है ।

4) हार्ट अटैक – डायबिटीज के साथ ही मधुमेह यानी कि शुगर के मरीजों में हाई कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर की संभावना भी होती है ऐसे में हार्ट अटैक यानी कि दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ती है ऐसा देखा जाता है कि जिन लोगों को डायबिटीज की शिकायत है उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से ज्यादा होती है ।

ये भी पढ़ें – हार्ट अटैक के लक्षण, कारण और इससे बचने के उपाय

5) वजन घट जाना – डायबिटीज आज के समय में एक बहुत ही खतरनाक बीमारी बन चुकी है । डायबिटीज के सबसे बड़े नुकसान में से एक यह नुकसान भी है कि डायबिटीज होने के कारण काफी तेजी से वजन घटने लग जाता है और एक हट्टा कट्टा इंसान दुबला पतला हो जाता है जो देखकर काफी चिंताजनक लगता है ।

ये थे डायबिटीज के कुछ नुकसान, अब हम जानेंगे की कैसे आप डायबिटीज होने का पता लगा सकते है । तो चलिए जानते है डायबिटीज के लक्षण ( symptoms of diabetes in hindi ) ।

diabetes ke lakshan

मधुमेह/डायबिटीज के लक्षण – Diabetes ke lakshan

नीचे आप जानेंगे diabetes ke lakshan, ये लक्षण अगर आपको दिखे तो हो सकता है कि आपको डायबिटीज हो चुका है । तो आइए जाने डायबिटीज के लक्षण –

1) सारा दिन थका थका लगना पूरी नींद लेने के बाद भी ऐसा लगना की नींद पूरी ना हुई हो यह चीज है दर्शाती है कि आपके खून में शुगर लेवल बढ़ रहा है ।

2) डायबिटीज होने के बाद बार-बार पेशाब आने लगता है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब खून में शुगर लेवल बढ़ जाता है तो यह शुगर शरीर से बाहर निकलने के लिए पेशाब का सहारा लेता है और इसलिए डायबिटीज के मरीज को बार बार पेशाब लगती है । ये diabetes ke lakshan में से एक है ।

3) डायबिटीज के रोगी को बार-बार प्यास भी लगती है क्योंकि बार-बार मरीज पेशाब जाता है तो शुगर के साथ शरीर का काफी तरल भी बह जाता है जिसके कारण मरीज को प्यास बार-बार लगती है ।

4) डायबिटीज के शुरुआत में अचानक से इसका असर आंखों पर पड़ता है और मरीज को धुंधला दिखाई देने लगता है । आंखों पर जोर देने के बाद ही चीजें साफ दिखाई देती है यह भी डायबिटीज का एक लक्षण है ।

5) डायबिटीज हो जाने के बाद अचानक से शरीर का वजन कम होने लग जाता है, मरीज को बार-बार भूख भी लगती है और उसे बार-बार कुछ खाने की इच्छा होती है । ये भी diabetes ke lakshan में से एक है ।

6) डायबिटीज के रोगी को यदि कोई खरोच या कोई चोट लग जाए तो वह जल्दी ठीक नहीं होती और धीरे-धीरे वह घाव बढ़ता ही चला जाता है उस घाव में संक्रमण भी आप साफ-साफ देख सकेंगे ।

7) डायबिटीज की शुरुआत में त्वचा में कई रोग होने लग जाते हैं जैसे कि बड़े घाव या त्वचा संक्रमण जैसे कि फंगस लगना आदि ।

डायबिटीज के लक्षण तो अब आप जान ही चुके होंगे, अब हम आपको बताने वाले है कि डायबिटीज के कारण क्या हो सकते है ।

डायबिटीज के कारण

डायबिटीज के कारण – Causes of diabetes in hindi

अब जब आप डायबिटीज के लक्षण जान चुके है तो आपको ये भी जान लेना चाहिए कि डायबिटीज यानी कि मधुमेह के कारण क्या है ? चलिए आपको बताते है डायबिटीज के कारण –

1) गलत खानपान – यदि आप गलत खानपान के आदी हैं और आपके खाने का कोई निर्धारित समय नहीं है तो आपको डायबिटीज होने का खतरा ज्यादा होता है । डॉक्टरों का कहना है कि वह लोग जो सुबह नाश्ता नहीं करते और ना ही समय पर खाना खाते हैं उन लोगों में डायबिटीज होने का खतरा ज्यादा होता है ।

2) शरीर को मेहनत ना कराना – यदि आप घंटों बैठे रहते हैं और शरीर से मेहनत का काम नहीं करवाते तो यह संभावना ज्यादा है कि आपको आगे चलकर डायबिटीज की समस्या हो इसलिए आपको एक्सरसाइज या योग अवश्य करना चाहिए और यदि आप इतना भी नहीं कर सकते तो रोज कम से कम 2km पैदल जरूर चले ।

3) अनुवांशिक – डायबिटीज होने का एक मुख्य कारण अनुवांशिक भी होता है, जिसमें यदि आपके पूर्वजों को डायबिटीज की बीमारी थी तो यह पूरी संभावना होती है कि आगे चलकर आपको भी डायबिटीज हो जाए इसलिए विशेष ध्यान देना चाहिए ।

4) मोटापा – एक स्टडी में पाया गया कि मोटापा भी डायबिटीज के लिए जिम्मेदार होता है । ज्यादातर लोग जो मोटे हो जाते हैं उनमें डायबिटीज की समस्या भी जरूर देखी जाती है इसलिए व्यायाम करते रहें और अपने खान-पान पर विशेष ध्यान दें और अपना वजन ज्यादा ना बढ़ने दें ।

5) ज्यादा मीठा खाना – ज्यादा मीठा खाना हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता क्योंकि ज्यादा चीनी का सेवन करने से हमारे रक्त में शुगर लेवल बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और इसे neutralise करने के लिए pancreas को ज्यादा इंसुलिन बनाना पड़ता है कई बार यही मीठे खाने की आदत लोगों को डायबिटीज का शिकार बना देती है ।

6) Unhealthy डाइट – आज के समय में जिस तरह की दिनचर्या लोग जी रहे हैं ना लोग सही खाना खा रहे हैं और ना ही सही डाइट ले रहे हैं आज के समय में युवाओं के बीच ज्यादातर फास्ट फूड का चलन है जो मुंह को स्वाद तो देती है पर शरीर को सेहत नहीं unhealthy डाइट भी डायबिटीज का एक बड़ा कारण मानी जाती है ।

7) कम नींद – अगर आप 7 से 8 घंटे की पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं और अपने शरीर को पर्याप्त मात्रा में आराम नहीं देते हैं तो यह भविष्य में आपके शरीर को काफी नुकसान पहुंचाती है । कई शोध में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि अनियमित नींद के कारण डायबिटीज जैसी समस्या हो सकती है ।

डायबिटीज के कारण जानने के बाद आपको ये जरूर जान लेना चाहिए कि डायबिटीज का इलाज क्या है और मधुमेह के घरेलू उपचार क्या है ।

डायबिटीज का इलाज

डायबिटीज का इलाज – Sugar ka ilaj in hindi

अब तक आप डायबिटीज के बारे में काफी कुछ जान चुके होंगे तो अब आइए आपको यह भी बताते हैं कि डायबिटीज का इलाज कैसे किया जाता है और अगर आपको डायबिटीज है तो आपको क्या करना चाहिए । विज्ञान के अनुसार डायबिटीज एक ऐसा रोग है जिसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता पर कुछ बातों का ध्यान रखें और कुछ दवाइयों की मदद से इसे नियंत्रण अवश्य किया जा सकता है तो आइए इस बारे में जानते है ।

1) इंसुलिन – अगर आपको टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज है तो आप इंसुलिन का इंजेक्शन ले सकते हैं । यह एक प्रकार का सिंथेटिक इंसुलिन होता है जो शरीर के अंदर डाला जाता है ताकि blood शुगर लेवल नियंत्रण में रहे । इस तरीके से आप डायबिटीज का इलाज कर सकते है ।

2) नियमित खानपान – डायबिटीज को नियंत्रण में रखने का सबसे सही उपाय है खान-पान का सही होना । अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो आपको ज्यादातर हरी पत्तेदार सब्जियां, टमाटर, गाजर जैसी सब्जियों का सेवन करना चाहिए और फलों का भी पर्याप्त मात्रा में सेवन करना चाहिए यह आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रखता है ।

3) व्यायाम – जब आप व्यायाम करते हैं तो शरीर में फिजिकल एक्टिविटी होने के कारण ब्लड ग्लूकोस कंट्रोल में आने लगता है इसीलिए डॉक्टरों के द्वारा डायबिटीज के मरीजों को सुबह पैदल चलने एवं व्यायाम करने की सलाह दी जाती है इसलिए आप भी रोज व्यायाम करें अगर आप अपने डायबिटीज को नियंत्रण में रखना चाहते हैं । डायबिटीज का इलाज करने के लिए आप व्यायाम का सहारा ले सकते है ।

4) Medicine – डायबिटीज की medicine भी मार्केट में मौजूद है जिसका सेवन करके आप अपने डायबिटीज को control में रख सकते हैं पर किसी भी दवाई का सेवन करने से पहले आपको किसी डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लेनी चाहिए ।

मधुमेह के उपचार

मधुमेह के उपचार – home remedies for diabetes in hindi

विज्ञान चाहे डायबिटीज के बारे में कुछ भी कहे पर आयुर्वेद के अनुसार डायबिटीज को ठीक किया जा सकता है तो आइए जानते है आयुर्वेद में बताए गए कुछ घरेलू उपचार जिनसे डायबिटीज को लगभग ठीक किया जा सकता है या नियंत्रण में रखा जा सकता है । ये है मधुमेह के उपचार

1) जामुन की गुठली से करें सुगर का इलाज

यह नुस्खा डायबिटीज का इलाज है । जामुन की गुठली डायबिटीज में बहुत ही असरदार मानी जाती है । इस नुस्खे का प्रयोग करने के लिए आप जामुन की गुठली का पाउडर बना लें और आधा चम्मच जामुन की गुठली का पाउडर एक गिलास गुनगुने पानी में सुबह खाली पेट और शाम को खाली पेट में रोज पीएं, ऐसा करने से आपके मूत्र में शुगर की मात्रा कम हो जाएगी और आपका डायबिटीज नियंत्रण में रहेगा । इस नुस्खे का लंबे समय तक प्रयोग करके आप डायबिटीज को जड़ से खत्म कर सकते हैं ।

2) करेला

आयुर्वेद के अनुसार करेले का इस्तेमाल मधुमेह में बहुत ही कारगर होता है । प्राचीन ग्रंथों में यह बताया गया है कि यदि डायबिटीज का मरीज रोज सुबह खाली पेट में करेले का रस पिए तो डायबिटीज नियंत्रण में रहता है । एक नए शोध के अनुसार यह भी दावा किया गया कि यदि रोज सुबह खाली पेट करेले को पानी में उबालकर उस पानी को पिया जाए तो यह नुस्खा डायबिटीज को जड़ से खत्म करने की ताकत रखता है ( Source )

3) मेथी से मधुमेह का उपचार

जहां पर भी मधुमेह की बात होती है तो मेथी का दाना इस्तेमाल ना हो ऐसा हो नहीं सकता । मेथी में डायबिटीज को नियंत्रण में रखने और पुराने से पुराने मधुमेह को खत्म करने की ताकत होती है | इस नुस्खे का प्रयोग करने के लिए आप मेथी के दाने का पाउडर बना लें और रोज सुबह खाली पेट में 2 टीस्पून मेथी के दाने का पाउडर एक गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पिए, ऐसा करने से मधुमेह नियंत्रण में रहेगा और लंबे समय तक इस नुस्खे का प्रयोग करने से मधुमेह जड़ से खत्म भी किया जा सकता है ( Source )

ये भी पढ़ें – मेथी के फायदे, उपयोग और नुकसान

4) सहजन

मधुमेह के उपचार के लिए सहजन बड़े काम की चीज है । सहजन की पत्तियां डायबिटीज को नियंत्रण में रखने के लिए बहुत ही कारगर मानी जाती हैं । आयुर्वेद में भी इसका जिक्र किया गया है | इस नुस्खे का प्रयोग करने के लिए आप सहजन की ताजी पत्तियां पीस लें और उसका रस सुबह खाली पेट में पीएं । सहजन की पत्तियों का रस आपका शुगर लेवल बढ़ने नहीं देगा और मधुमेह को नियंत्रण में रखेगा पर यदि आप 3 से 4 महीने इस नुस्खे का प्रयोग करते हैं तो यह नुस्खा मधुमेह को जड़ से खत्म करने की भी शक्ति रखता है ।

ये भी पढ़ें – सहजन के फायदे, उपयोग और नुकसान

5) तुलसी से डायबिटीज का इलाज

ये है मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार, तुलसी की पत्तियों में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं और इसमें कई ऐसे तत्व भी होते हैं जो पैंक्रियास को इंसुलिन बनाने के प्रति सक्रिय करते हैं और इंसुलिन का स्त्राव को बढ़ाने में मदद करती है । रोज सुबह उठकर खाली पेट में 2 से 3 तुलसी की पत्तियां चबाएं और यदि आप चाहे तो तुलसी की पत्तियों का रस बनाकर भी इसे खाली पेट पी लें इससे आपका मधुमेह नियंत्रण में रहेगा और लंबे समय तक इस नुस्खे का प्रयोग मधुमेह को जड़ से खत्म कर देगा । आप इन तरीकों से डायबिटीज का इलाज कर सकते हैं ।

ये भी पढ़ें – तुलसी के फायदे

6) नीम

मधुमेह के उपचार के लिए नीम का भी इस्तेमाल किया जा सकता है । भारत में कई वर्षों से नीम की छाल को डायबिटीज को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता आ रहा है और यह बहुत हद तक असर भी करती है । आयुर्वेद की मानें तो नीम में एंटीफंगल एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल तत्व होते हैं जो डायबिटीज को नियंत्रण में रखने में मदद करते हैं कुछ स्टडीज के अनुसार नीम का सेवन डायबिटीज को नियंत्रण में रखने में मदद करता है ( Source )

ये भी पढ़ें – नीम के पत्ते के फायदे

7) कड़ी पत्ता

कड़ी पत्ते में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रखते हैं साथ ही कोलेस्ट्रॉल को भी कम करते हैं । यही नहीं अगर आप रोज 8 से 9 कड़ी पत्ते चबाकर खाते हैं तो यह आपके बाल एवं आपकी त्वचा को भी बहुत से फायदे पहुंचाती है । अगर आपको डायबिटीज है तो आप रोज सुबह में खाली पेट 8 से 9 कड़ी पत्ते जमाना शुरू करें आपको बहुत फायदा होगा ।

8) एलोवेरा से sugar ka ilaj in hindi

मधुमेह के उपचार के लिए आप एलोवेरा का भी इस्तेमाल कर सकते है । एलोवेरा का रस एंटी डायबिटिक गुण से समृद्ध होता है, एक स्टडी के अनुसार एलोवेरा में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर और लिपिड को कंट्रोल करने में सक्षम होता है । लगातार लंबे समय तक एलोवेरा के जूस का सेवन करने से ब्लड शुगर को नियंत्रण में किया जा सकता है । एलोवेरा का जूस आप सुबह खाली पेट में पी सकते हैं, यह डायबिटीज को तो नियंत्रण में रखता ही है साथ ही यह आपको कई शारीरिक एवं मानसिक दोनों ही लाभ पहुंचाता है ( Source )

9) दालचीनी

दालचीनी एक प्रकार का मसाला है जिसे भारत में सब्जियों में डालने के लिए इस्तेमाल किया जाता आ रहा है पर इसमें एंटी डायबिटिक गुण भी पाए गए हैं जो रक्त में शुगर लेवल को नियंत्रण में करने में सक्षम होता है । आधा चम्मच दालचीनी पाउडर को एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन रोज सुबह खाली पेट में करें यह डायबिटीज में आपको बहुत फायदा पहुंचाएगा ।

10) आंवले से मधुमेह का उपचार

आंवले में समृद्ध मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है साथ ही इसमें क्रोमियम मौजूद होता है जो ब्लड शुगर को control करने में मदद करता है, साथ ही आंवले का सेवन करने से इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाने में भी मदद करता है । आंवला का सेवन करने से आपको और भी कई मानसिक एवं शारीरिक फायदे होते हैं । इसका सेवन करने के लिए आप या तो रोज एक कच्चा आंवला खा सकते हैं या एक गिलास आंवले का रस पी सकते हैं ।

ये भी पढ़ें – आंवले के चमत्कारी फायदे

डायबिटीज को मापने का सबसे आसान तरीका

डायबिटीज को मापना बहुत ज़रूरी होता है ताकि आप डायबिटीज को control में रख सके, अगर आप भी डायबिटीज के मरीज़ हैं तो आपको ये device जरूर खरीदनी चाहिए क्योंकि ये आपको घर बैठे 5 मिनट में आपके ब्लड सुगर लेवल को मापकर बता देती है जिससे आपको ये पता चल जाता है की आपकी दवा काम कर रही है या नही । इस device की कीमत काफी कम है और यह बहुत काम की चीज है जो डायबिटीज के मरीजों के पास होनी ही चाहिए । नीचे हमने डायबिटीज मापने के लिए 2 devices के लिंक दिए है आप लिंक पर क्लिक करके उसे खरीद सकते है ।

Accu-Chek Instant S Meter with Free 10 Strips and Accu-Chek Instant Strips - 50 Count (White)

1) Accu-Chek Instant S Meter with Free 10 Strips and Accu-Chek Instant Strips – 50 Count ( White ) – क्लिक कर खरीदें 

Dr TrustFully Automatic Blood Sugar Testing Glucometer Machine with 10 Strips(Black)

2) Dr TrustFully Automatic Blood Sugar Testing Glucometer Machine with 10 Strips ( Black ) – क्लिक कर खरीदें

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आप ”  डायबिटीज के लक्षण, कारण, डायबिटीज का इलाज “ अच्छी तरह जान चुके होंगे अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है तो comment box में पूछें हमारी हमारी टीम आपके सवालों का जवाब 24 घंटे के अंदर दे देगी, और अगर आप चाहते है कि हमारे अगले post की notification आप तक पहुंचे तो healthkenuskhe.com को subscribe कर लें, आपका दिन शुभ हो धन्यवाद ।

Leave a Comment